close this ads

मीरा दीवानी हो गयी रे..


मीरा दीवानी हो गयी रे, मीरा दीवानी हो गयी ।
मीरा मस्तानी हो गयी रे, मीरा मस्तानी हो गयी ॥
शयम रंग में रंगी चुनरिया, हो हो हो हो..
॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥

राणा की राजधानी छोड़ी लोक लाज सब छोड़ी,
रंग के श्याम रंग में चुनर मीरा जी ने ओडी ।
लोक लाज की नहीं खबरिया, हो ओ ओ..
॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥

इस दुनिया से प्रीत तोड़के श्यामल रंग चढ़ाया,
साथ सभी का छोड़ दिया और गिरिधर गिरिधर गाया ।
वो तो ऐसी भाई बावरिया, हो ओ ओ..
॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥

पैरों में वो घुँघरू बाँध के झूमे नाचे गाए,
भई विहरनी श्याम विरहा और ना कोई है भाए ।
वृन्दावन की गयी डगरिया, हो हो हो..
॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥

लगन लगी तेरे दरश की और ना कोई भाए,
गली गली तोहे ढूंढती ढोले कही ना फिर वो पाए ।
तेरे दर पे बीती उमरिया, हो ओ ओ..
॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥

मीरा दीवानी हो गयी रे, मीरा दीवानी हो गयी ।
मीरा मस्तानी हो गयी रे, मीरा मस्तानी हो गयी ॥
शयम रंग में रंगी चुनरिया, हो हो हो हो..

Available in English - Meera Deewani Ho Gayi Re..
Meera Deewani Ho Gayi Re, Meera Deewani Ho Gayi। Meera Mastani Ho Gayi Re...
ये भी जानें

BhajanMeera BhajanMeerabai Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

तू प्यार का सागर है...

तू प्यार का सागर है, तेरी एक बूँद के प्यासे हम। लौटा जो दिया तूने, चले जायेंगे जहां से हम...

भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया, ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है...

भजन: वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे...

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे। पर दुःखे उपकार करे तो ये...

भजन: शरण में आये हैं हम तुम्हारी

शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन। सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी...

भजन: क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी!

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी, अब तक के सारे अपराध। धो डालो तन की चादर को...

मात अंग चोला साजे..

मात अंग चोला साजे, हर रंग चोला साजे, मात की महिमा देखो, ज्योत दिन रैना जागे...

सावन की बरसे बदरिया...

सावन की बरसे बदरिया, माँ की भीगी चुनरीया, भीगी चुनरिया माँ की...

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है!

तेरी छाया मे, तेरे चरणों मे, मगन हो बैठूं, तेरे भक्तो मे॥ तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे!

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना। जो रूखा सूखा दिया हमें...

^
top