close this ads

नमामि श्री गणराज दयाल!


नमामि श्री गणराज दयाल,
करत हो भक्तन का प्रतिपाल,
नमामि श्री गणराज दयाल।

निशिदिन ध्यान धरे जो प्राणी,
हरे सकल भव जाल,
जन्म-मरन से होत निराला,
नहीं लगती कर माल,
॥ नमामि श्री गणराज दयाल...॥

लंबोदर गज-वदन मनोहर,
गले फूलों की माल,
ऋद्धि-सिद्धि चमाल धूलावें,
शोभत से दूर हार,
॥ नमामि श्री गणराज दयाल...॥

मूषक वाहन त्रिशूल परेशुधार,
चंदन झलक विशाल,
ब्रह्मादिक सब ध्यावत तुम को,
अर्जी तुकरया बाल,
॥ नमामि श्री गणराज दयाल...॥

नमामि श्री गणराज दयाल,
करत हो भक्तन का प्रतिपाल,
नमामि श्री गणराज दयाल।

Read Also
» गणेशोत्सव - Ganeshotsav
» दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर।
» आरती: श्री गणेश जी | भोग आरती: श्री गणेश जी | आरती: श्री गणेश - शेंदुर लाल चढ़ायो! | नामावलि: श्री गणेश अष्टोत्तर नामावलि

Hindi Version in English

Namami Shri Ganraj Dayal,
Karat Ho Bhakt Naka Pratipal,
Namami Shri GanRaj Dayal।

Nishidina Dhyan Dhare Jo Prani,
Hare Sakal Bhav Jal,
Janam-Maran Se Hot Nirala,
Nahi Lagti Kar Mal,
॥ Namami Shri Ganraj Dayal...॥

Lambodar GajVadan Manohar,
Galephulo Ki Mal,
Ridhisidhi Chamar Dulave,
Shobhatase Dur Hare,
॥ Namami Shri Ganraj Dayal...॥

Mushak Vahan Trishul Pareshudhar,
Chandan Jhanak Vishal,
Bramhadip Sab Dhyavat Tum Ko,
Arji Tukrya Bal,
॥ Namami Shri Ganraj Dayal...॥

Namami Shri Ganraj Dayal,
Karat Ho Bhakt Naka Pratipal,
Namami Shri GanRaj Dayal।

BhajanShri Ganesh BhajanGanpati BhajanGaneshutsav Bhajan


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

आए हैं प्रभु श्री राम...

आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते हैं। तन पुलकित मुख बोल ना आए...

मेरे बांके बिहारी लाल...

मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार, नज़र तोहे लग जाएगी।...

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार!

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार, यहाँ पे भी जो हारा, कहाँ जाऊंगा सरकार॥

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे।

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे। तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे।

उठ जाग मुसाफिर भोर भई...

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है।...

हे दयामय आप ही संसार के आधार हो।

हे दयामय आप ही संसार के आधार हो। आप ही करतार हो हम सबके पालनहार हो॥

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता। शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है।

मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। तेरा शुक्रिया है, तेरा शुक्रिया है।

ओम अनेक बार बोल!

ओम अनेक बार बोल, प्रेम के प्रयोगी। है यही अनादि नाद, निर्विकल्प निर्विवाद।...

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं।

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं। मेरे नयनो के तारे है। सारे जग के रखवाले है...

Latest Mandir

^
top