भजन: क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी! (Kshama Karo Tum Mere Prabhuji)


भजन: क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी!

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,
अब तक के सारे अपराध

धो डालो तन की चादर को,
लगे है उसमे जो भी दाग
॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥

तुम तो प्रभुजी मानसरोवर,
अमृत जल से भरे हुए

पारस तुम हो, इक लोहा मै,
कंचन होवे जो ही छुवे

तज के जग की सारी माया,
तुमसे कर लू मै अनुराग

धो डालो तन की चादर को,
लगे है उसमे जो भी दाग
॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥

काम क्रोध में फंसा रहा मन,
सच्ची डगर नहीं जानी

लोभ मोह मद में रहकर प्रभु,
कर डाली मनमानी

मनमानी में दिशा गलत लें,
पंहुचा वहां जहाँ है आग

धो डालो तन की चादर को,
लगे है उसमे जो भी दाग
॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥

इस सुन्दर तन की रचना कर,
तुमने जो उपकार किया

हमने उस सुन्दर तन पर प्रभु,
अपराधो का भार दिया

नारायण अब शरण तुम्हारे,
तुमसे प्रीत होये निज राग

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,
अब तक के सारे अपराध

धो डालो तन की चादर को,
लगे है उसमे जो भी दाग
॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥

Kshama Karo Tum Mere Prabhuji in English

Kshama Karo Tum Mere Prabhuji, Ab Tak Ke Sare Aparadh, Dho Dalo Tan Ki Chadar Ko...
यह भी जानें

BhajanArya Samaj BhajanVedik BhajanPrabhu BhajanAll Time BhajanSatsang Bhajan

अन्य प्रसिद्ध भजन: क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी! वीडियो

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी - Swami Ramdev


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

शरण में आये हैं हम तुम्हारी: भजन

शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन। सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी..

कभी राम बनके, कभी श्याम बनके भजन

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना..

जन्माष्टमी भजन: नन्द के आनंद भयो

आनंद उमंग भयो, जय हो नन्द लाल की। नन्द के आनंद भयो, जय कन्हिया लाल की॥

बनवारी रे! जीने का सहारा तेरा नाम रे: भजन

बनवारी रे, जीने का सहारा तेरा नाम रे, मुझे दुनिया वालों से क्या काम रे ॥ झूठी दुनिया, झूठे बंधन...

फंसी भंवर में थी मेरी नैया - श्री श्याम भजन

फंसी भंवर में थी मेरी नैया, चलाई तूने तो चल पड़ी है । पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत..

चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां: शब्द कीर्तन

सिमर सिमर नाम जीवा, तन मन होए निहाला, चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां

तुम शरणाई आया ठाकुर: शब्द कीर्तन

तुम शरणाई आया ठाकुर ॥ उतरि गइओ मेरे मन का संसा, जब ते दरसनु पाइआ ॥

🔝