सीता नवमी | वट सावित्री व्रत | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

भजन: शरण में आये हैं हम तुम्हारी


शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।
सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी, दया करो हे दयालु भगवन।

न हम में बल है, न हम में शक्ति।
न हम में साधन, न हम में भक्ति।
तुम्हारे दर के हैं हम भिखारी, दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

प्रदान कर दो महान शक्ति, भरो हमारे में ज्ञान भक्ति।
तभी कहाओगे ताप हारी, दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

जो तुम पिता हो, तो हम हैं बालक।
जो तुम हो स्वामी, तो हम हैं सेवक।
जो तुम हो ठाकुर, तो हम पुजारी।
दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

भले जो हैं हम, तो हैं तुम्हारे।
बुरे जो हैं हम, तो हैं तुम्हारे।
तुम्हारे हो कर भी हम दुखारी।
दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।
सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी, दया करो हे दयालु भगवन।

Available in English - Sharan Mein Aaye Hain Hum Tumhari
Sharan mein aye hain ham tumhari, daya karo hey dayalu bhagawan...
ये भी जानें

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: मेरी आखिओं के सामने ही रहना!

मेरी आखिओं के सामने ही रहना, माँ शेरों वाली जगदम्बे।

भजन: श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी...

श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी, तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी...

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है।

मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। तेरा शुक्रिया है, तेरा शुक्रिया है।

भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे।

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे। तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे।

भजन: गुरु बिन घोर अँधेरा संतो!

गुरु बिन घोर अँधेरा संतो, गुरु बिन घोर अँधेरा जी। बिना दीपक मंदरियो सुनो...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन!

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार। पवनसुत विनती बारम्बार॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता...

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये!

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

कृपा मिलेगी श्री राम जी की..

किरपा मिलेगी श्री राम जी की, भक्ति करो, भक्ति करो, दया मिलिगी हनुमान जी की, राम जपो, राम जपो...

close this ads
^
top