close this ads

भजन: शरण में आये हैं हम तुम्हारी


शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।
सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी, दया करो हे दयालु भगवन।

न हम में बल है, न हम में शक्ति।
न हम में साधन, न हम में भक्ति।
तुम्हारे दर के हैं हम भिखारी, दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

प्रदान कर दो महान शक्ति, भरो हमारे में ज्ञान भक्ति।
तभी कहाओगे ताप हारी, दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

जो तुम पिता हो, तो हम हैं बालक।
जो तुम हो स्वामी, तो हम हैं सेवक।
जो तुम हो ठाकुर, तो हम पुजारी।
दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

भले जो हैं हम, तो हैं तुम्हारे।
बुरे जो हैं हम, तो हैं तुम्हारे।
तुम्हारे हो कर भी हम दुखारी।
दया करो हे दयालु भगवन।
शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।

शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन।
सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी, दया करो हे दयालु भगवन।

Available in English - Sharan Mein Aaye Hain Hum Tumhari
Sharan mein aye hain ham tumhari, daya karo hey dayalu bhagawan...
ये भी जानें

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया..

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया, सबको बहुत बधाई है, बहुत बधाई है...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी..

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी। हरि नाम मिश्री, तू घोल-घोल पी ॥

घर आये राम लखन और सीता..

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

बोलो राम! मन में राम बसा ले।

बोलो राम जय जय राम, जन्म सफल होगा बन्दे, मन में राम बसा ले...

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में, देख लो मेरे मन के नागिनें में।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम। भजमन प्यारे, जय सिया राम।

^
top