close this ads

ऐसा प्यार बहा दे मैया...


या देवी सर्वभूतेषु, दया-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः॥
दुर्गा दुर्गति दूर कर, मंगल कर सब काज।
मन मंदिर उज्वल करो, कृपा करके आज॥

ऐसा प्यार बहा दे मैया, चरणों से लग जाऊ मैं।
सब अंधकार मिटा दे मैया, दरस तेरा कर पाऊं मैं॥

जग मैं आकर जग को मैया, अब तक न मैं पहचान सका।
क्यों आया हूँ कहाँ है जाना, यह भी ना मै जान सका।
तू है अगम अगोचर मैया, कहो कैसे लख पाऊं मैं॥
॥ ऐसा प्यार बहा दे मैया...॥

कर कृपा जगदम्बे भवानी, मैं बालक नादान हूँ।
नहीं आराधन जप तप जानूं, मैं अवगुण की खान हूँ।
दे ऐसा वरदान हे मैया, सुमिरन तेरा गाऊ मैं॥
॥ ऐसा प्यार बहा दे मैया...॥

मै बालक तू माया मेरी, निष् दिन तेरी ओट है।
तेरी कृपा से ही मिटेगी, भीतर जो भी खोट है।
शरण लगा लो मुझ को मईया, तुझपे बलि बलि जाऊ मैं॥

ऐसा प्यार बहा दे मैया, चरणों से लग जाऊ मैं।
सब अंधकार मिटा दे मैया, दरस तेरा कर पाऊं मैं॥

Available in English - Aisa Pyar Baha De Maiya
Ya Devi Aarva-Bhuteshu, Daya-Roopen Sansthita। Namastasye Namastasye Namastasye Namo Namah॥

BhajanMaa Durga BhajanMaa BhajanNavratri Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी..

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी। हरि नाम मिश्री, तू घोल-घोल पी ॥

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

घर आये राम लखन और सीता..

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

बोलो राम! मन में राम बसा ले।

बोलो राम जय जय राम, जन्म सफल होगा बन्दे, मन में राम बसा ले...

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में, देख लो मेरे मन के नागिनें में।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम। भजमन प्यारे, जय सिया राम।

मुझे अपनी शरण में ले लो राम!

मुझे अपनी शरण में ले लो राम, ले लो राम! लोचन मन में जगह न हो तो...

^
top