ऐ मालिक तेरे बंदे हम - प्रार्थना (Aye Malik Tere Bande Hum)


ऐ मालिक तेरे बंदे हम - प्रार्थना

ऐ मालिक तेरे बंदे हम,
ऐसे हो हमारे करम
नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हँसते हुये निकले दम

ये अंधेरा घना छा रहा,
तेरा इन्सान घबरा रहा
हो रहा बेख़बर, कुछ ना आता नज़र,
सुख का सूरज छुपा जा रहा
है तेरी रोशनी में वो दम,
तो अमावस को कर दे पूनम

बड़ा कमजोर है आदमी,
अभी लाखों हैं इस में कमी
पर तू जो खड़ा, है दयालू बड़ा,
तेरी क्रिपा से धरती थमी
दिया तूने हमें जब जनम,
तू ही झेलेगा हम सब के ग़म

जब जुल्मों का हो सामना,
तब तू ही हमें थामना
वो बुराई करें, हम भलाई भरें,
नहीं बदले की हो कामना
बढ़ उठे प्यार का हर कदम,
और मिटे बैर का ये भरम

ऐ मालिक तेरे बंदे हम,
ऐसे हो हमारे करम
नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हँसते हुये निकले दम

Aye Malik Tere Bande Hum in English

Aye Maalik Tere Bnde Ham, Aise Ho Hamaare Karam, Neki Par Chale Aur Badi Se Tale, Taaki Hnsate Huye
यह भी जानें

Bhajan Arya Samaj BhajanVed BhajanVedic BhajanHawan BhajanYagya BhajanMotivational BhajanMorning BhajanDainik BhajanDaily BhajanPrarthana BhajanVandana BhajanJain BhajanJainism BhajanSchool BhajanCollage BhajanGurukul BhajanInspirational BhajanShanti Dham Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

रोम रोम में जिसके, श्री राम समाया है: भजन

रोम रोम में जिसके, श्री राम समाया है, आज उसी बजरंग का, ये उत्सव आया है ॥

रखवाला प्रतिपाला, मेरा लाल लंगोटे वाला: भजन

रखवाला प्रतिपाला, मेरा लाल लंगोटे वाला, कदम कदम पर रक्षा करता...

भजन: सालासर में जिसका, आना जाना हो गया

सालासर में जिसका, आना जाना हो गया, वो ही मेरी बाबा का, दीवाना हो गया...

नित रटूं नाम बाबा, नौकरी मिलज्या जै हनुमान: भजन

नित रटूं नाम बाबा, आज्या काम आज, दे दे ईसा वरदान...

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

अगर नाथ देखोगे अवगुण हमारे: भजन

अगर नाथ देखोगे अवगुण हमारे, तो हम कैसे भव से लगेंगे किनारे ॥..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel