Download Bhakti Bharat APP

प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता! (He Jag Trata Vishwa Vidhata)


प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता!

* त्राता: का अर्थ, वह जो त्राण करता हो, रक्षा करने वाला व्यक्ति।
कुछ जगहों पर त्राता की जगह दाता प्रयोग में लाया गया है।

हे जग त्राता विश्व विधाता,
हे सुख शांति निकेतन हे।

प्रेम के सिन्धु, दीन के बन्धु,
दु:ख दारिद्र विनाशन हे ।
हे जग त्राता विश्व विधाता,
हे सुख शांति निकेतन हे ।

नित्य अखंड अनंन्त अनादि,
पूरण ब्रह्म सनातन हे ।
हे जग त्राता विश्व विधाता,
हे सुख शांति निकेतन हे ।

जग आश्रय जग-पति जग-वन्दन,
अनुपम अलख निरंजन हे ।
हे जग त्राता विश्व विधाता,
हे सुख शांति निकेतन हे ।

प्राण सखा त्रिभुवन प्रति-पालक,
जीवन के अवलंबन हे ।
हे जग त्राता विश्व विधाता,
हे सुख शांति निकेतन हे ।

हे जग त्राता विश्व विधाता,
हे सुख शांति निकेतन हे ।
हे सुख शांति निकेतन हे,
हे सुख शांति निकेतन हे ।

He Jag Trata Vishwa Vidhata in English

Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He। Prem Ke Sindhu Deen Ke Bandho...
यह भी जानें

Bhajan Arya Samaj BhajanVed BhajanVedic BhajanHawan BhajanYagya BhajanMotivational BhajanMorning BhajanDainik BhajanDaily BhajanPrarthana BhajanVandana BhajanJain BhajanJainism BhajanSchool BhajanCollage BhajanGurukul BhajanInspirational BhajanShanti Dham Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

उठ जाग मुसाफिर भोर भई - भजन

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है।..

बीच भंवर में फसी मेरी नैया: भजन

बीच भंवर में फसी मेरी नैया, तुम्ही हो खिवैया माँ, तुम्ही हो खिवैया ॥

प्राणो से भी प्यारा, दादी धाम तुम्हारा: भजन

प्राणो से भी प्यारा, दादी धाम तुम्हारा, दर्शन कर हो जाता, ये जीवन सफल हमारा, तूने सबको तारा, सबका जीवन संवारा,
तेरे बिन कौन दादी, हम भक्तों का सहारा ॥

सज धज बैठ्या दादीजी, लुन राई वारा: भजन

सज धज बैठ्या दादीजी, लुन राई वारा, निजरा उतारा माँ की, निजरा उतारा, निजरा उतारा माँ की, निजरा उतारा ॥

जिस ओर नजर फेरूं दादी, चहुँ ओर नजारा तेरा है: भजन

जिस ओर नजर फेरूं दादी, चहुँ ओर नजारा तेरा है, सतियों में तू सिरमौर है माँ, साँचा ये द्वारा तेरा है, जिस ओर नजर फेरूँ दादी, चहुँ ओर नजारा तेरा है ॥

मैया तेरे चरणों की: भजन

मैया तेरे चरणों की, अम्बे तेरे चरणों की, गर धूल जो मिल जाए, सच कहती हूँ मैया, तक़दीर बदल जाए, मैया तेरे चरणो की ॥

साँसों की माला पे सिमरूं मैं, पी का नाम - भजन

साँसों की माला पे सिमरूं मैं, पी का नाम, अपने मन की मैं जानूँ, और पी के मन की राम, अपने मन की मैं जानूँ और पी के मन की राम ॥

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App