जैसे तुम सीता के राम: भजन (Jaise Tum Sita Ke Ram)


जैसे तुम सीता के राम: भजन

जैसे तुम सीता के राम
जैसे लक्ष्मण के सम्मान
जैसे हनुमत के भगवान
वैसे ही हे राम! मम पूजा स्वीकार करो
जैसे तुम सीता के राम

जैसे तुम ताड़िका संहारी
जैसे शूर्पणखा को तारे
जैसे पीड़ा सबरी हारी
जैसे वानर मित्र बनाये
जैसे नाविक ह्रदये लगाए
वैसे बजरंग मन ही बसाये
वैसे ही मेरे नाथ दास का
वंदन अंगीकार करो
मम पूजा स्वीकार करो
जैसे तुम सीता के राम

जैसे सहज जटायू तारा
जैसे ऋषिमुनि दुःख को हारा
जैसे भरत रहा है प्यारा
जैसे भक्तो के रखवारे
जैसे दुखियो के दुःख हारे
वैसे संतो के हो प्यारे
वैसे ही हे राम! आसरा माया से उद्धार करो
मम पूजा स्वीकार करो
जैसे तुम सीता के राम

जैसे तुम सीता के राम
जैसे लक्ष्मण के सम्मान
जैसे हनुमत के भगवान
वैसे ही हे राम! मम पूजा स्वीकार करो

Jaise Tum Sita Ke Ram in English

Jaise Tum Sita Ke Ram, Jaise Lakshman Ke Samman, Jaise Hanumat Ke Bhagwan
यह भी जानें

Bhajan Shri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navami BhajanSita Navami BhajanJanaki Jayanti BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah BhajanShri Vishnu Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

नमो नमो शिवाय: शिव भजन

नमो नमो जय, नमो शिवाय, कितने भोले मेरे शिव हैं, करते हैं कमाल शंकर.

बंसी वाले के चरणों में, सर हो मेरा: भजन

बंसी वाले के चरणों में, सर हो मेरा, फिर ना पूछो, कि उस वक़्त क्या बात है...

न्यू- मैं बालक तू माता: भजन

तो क्या जो ये पीड़ा का पर्वत, रास्ता रोक के खड़ा है, तेरी ममता जिस का बल वो..

मैं बालक तू माता शेरां वालिए: भजन

मैं बालक तू माता शेरां वालिए, है अटूट यह नाता शेरां वालिए...

मेरी माँ के बराबर कोई नहीं: भजन

तेरी ममता से जो गहरा हो, ऐसा तो सागर कोई नहीं, मेरी माँ के बराबर कोई नहीं..

हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में: भजन

हरी नाम सुमिर सुखधाम, हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में जीवन दो दिन का...

रखो हाथ ढाल तलवार मजबूती, जगदम्बा: भजन

रखो हाथ ढाल तलवार मुठ मजबूती, मुठ मजबूती ए धरदे रे जगदम्बा, राजपूतों में मजबूती..

मंदिर

Download BhaktiBharat App Go To Top