भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं! (Bhajan: Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin Hanuman)


भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं!

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं,
हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।
तेरी शक्ति का क्या कहना,
तेरी भक्ति का क्या कहना ॥

सीता की खोज करी तुमने,
तुम सात समुन्दर पार गये ।
लंका को किया शमशान प्रभु,
बलवान तुम्हारा क्या कहना ॥
तेरी शक्ति का क्या कहना,
तेरी भक्ति का क्या कहना ।
॥ कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं...॥

जब लखन लाल को शक्ति लगी,
तुम द्रोणागिरी पर्वत लाये ।
लक्ष्मण के बचाये आ कर के,
तब प्राण तुम्हारा क्या कहना ॥
तेरी शक्ति का क्या कहना,
तेरी भक्ति का क्या कहना ।
॥ कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं...॥

तुम भक्त शिरोमनी हो जग में,
तुम वीर शिरोमनी हो जग में ।
तेरे रोम रोम में बसते हैं सिया राम,
तुम्हारा क्या कहना ॥

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं,
हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।
तेरी शक्ति का क्या कहना,
तेरी भक्ति का क्या कहना ॥

Bhajan: Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin Hanuman in English

Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin, Hanuman Tumhara Kya Kahana
यह भी जानें

BhajanHanuman BhajanBalaji BhajanBajrangbali BhajanHanuman Janmotsav BhajanMangalwar BhajanTuesday BhajanLakha Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝