न्यू- मैं बालक तू माता: भजन (Main Balak Tu Mata)


न्यू- मैं बालक तू माता: भजन

तो क्या जो ये
पीड़ा का पर्वत
रास्ता रोक के खड़ा है
तेरी ममता
जिस का बल वो
कब दुनिया से डरा है
हिम्मत मैं क्यों
हारूं मैया
हिम्मत मैं क्यों
हारूं मैया
सर पे हाथ तेरा है
तेरी लगन मैं मगन मैं नाचूं
गाऊं तेरा जगराता

मैं बालक तू माता शेरां वालिए
है अटूट ये नाता शेरां वालिए हो हो
मैं बालक तू माता शेरां वालिए
है अटूट ये नाता शेरां वालिए

शेरां वालिए माँ, पहाड़ा वालिए माँ
ज्योतां वालिये माँ, मेहरा वालिये माँ
मैं बालक तू माता शेरां वालिए
है अटूट ये नाता शेरां वालिए

बिन बाती बिन दिया तू कैसे
कांटे घोर अँधेरा
बिन सूरज तू कैसे करदे
अंतरमन में सवेरा

बिन धांगो के कैसे जुड़ा है
बिन धांगो के कैसे जुड़ा है
बंधन तेरा मेरा
तू समझे या मैं समझूँ
कोई और समझ नहीं पाता

मैं बालक तू माता शेरां वालिए
है अटूट ये नाता शेरां वालिए हो
शेरां वालिए माँ, ज्योतां वालिये माँ
पहाड़ा वालिए माँ, मेहरा वालिये माँ
मैं बालक तू माता शेरां वालिए
है अटूट ये नाता शेरां वालिए
- Jubin Nautiyal

Main Balak Tu Mata in English

To Kya Jo Ye, Peeda Ka Parvat, Rasta Rok Ke Khada Hai, Teri Mamta, Jis Ka Bal Vo..
यह भी जानें

Bhajan Maa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanMaa Durga BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanShukravar BhajanFriday BhajanJubin Nautiyal Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

बाहुबली से शिव तांडव स्तोत्रम, कौन-है वो

कौन-है वो, कौन-है वो, कहाँ से वो आया, चारों दिशायों में, तेज़ सा वो छाया...

जो शिव को ध्याते है, शिव उनके है - भजन

जो शिव को ध्याते है, शिव उनके है, जो शिव में खो जाते है..

काशी वाले, देवघर वाले, जय शम्भू - भजन

काशी वाले देवघर वाले, भोले डमरू धारी। खेल तेरे हैं निराले, शिव शंकर त्रिपुरारी।

मेरे सोये भाग जगा भी दो - भजन

मेरे सोये भाग जगा भी दो, शिव डमरू वाले, शंकर भोले भाले ।..

राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया: भजन

ऐसा सुंदर स्वभाव कहाँ पाया, राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया । पर नारी पर दृष्टि न ड़ाली..

जन्मे अवध में राम मंगल गाओ री: भजन

जिस भजन में राम का नाम ना हो, उस भजन को गाना ना चाहिए।..

मुझे दास बनाकर रख लेना: भजन

मुझे दास बनाकर रख लेना, भगवान तू अपने चरणों में, मैं भला बुरा हूँ तेरा हूँ..

मंदिर

Download BhaktiBharat App