close this ads

राम सीता और लखन वन जा रहे!


राम सीता और लखन वन जा रहे,
हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे,
राम सीता और लखन वन जा रहे ॥

मुर्ख कैकई ने किया है ये सितम, ...x2
दुःख दिल में जो की सब जन पा रहे, ...x2
॥ हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...॥

रह सकेंगे प्राण तन में क्या मेरे, ...x2
ध्यान में ना ये नतीजे ला रहे, ...x2
॥ हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...॥

क्या विचारा था मेने क्या हो रहा, ...x2
फूल आशाओ के खिल मुरझा रहे, ...x2
॥ हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...॥

गा रहे थे जो ख़ुशी के गीत कल, ...x2
आज वे दुःख के विरह यूँ गा रहे, ...x2
॥ हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...॥

भाग्य में क्या ये विधाता लिख दिया, ...x2
पहुंच के मंजिल पे ठोकर खा रहे, ...x2
॥ हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...॥

रोक ले कोई उन्हें समझाय कर, ...x2
ज्ञान प्रभु दिल में यही है मना रहे, ...x2
॥ हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...॥

राम सीता और लखन वन जा रहे,
हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे,
राम सीता और लखन वन जा रहे ॥

Available in English - Ram Sita Aur Lakhan Van Ja Rahe
Shri Ram Bhajan Video: Ram Sita Aur Lakhan Van Ja Rahe, Haye Ayodhya Me Andhere Chha Rahe...
ये भी जानें

अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए!

जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए, एक बार तो हाथ उठालो, मेरे हनुमान के लिए...

भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना

पार ना लगोगे श्री राम के बिना, राम ना मिलेगे हनुमान के बिना। राम ना मिलेगे हनुमान के बिना...

भजन: मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे!

मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे, भोले बाबा जी की आँखों के तारे, प्रभु सभा बीच में आ जाना आ जाना...

नाचे नन्दलाल, नचावे हरि की मईआ!

नाचे नन्दलाल, नचावे हरि की मईआ ॥ नचावे हरि की मईआ...

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया..

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया, सबको बहुत बधाई है, बहुत बधाई है...

कृष्ण जिनका नाम है...!

कृष्ण जिनका नाम है, गोकुल जिनका धाम है, ऐसे श्री भगवान को...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

^
top