भजन: बोलो राम! मन में राम बसा ले। (Bolo Ram Man Me Ram Basa Le Bhajan)


भजन: बोलो राम! मन में राम बसा ले।

बोलो राम, जय जय राम, बोलो राम
जन्म सफल होगा बन्दे,
मन में राम बसा ले,
भोले राम, आजा राम, भोले राम,

हे राम नाम के मोती को,
सांसो की माला बना ले,
मन में राम बसा ले,

राम पतित पवन करुनाकर,
और सदा सुख दाता,
भोले राम, आजा राम, भोले राम,

सरस सुहावन अति मनभावन,
राम से प्रीत लगा ले,
मन में राम बसा ले,
भोले राम, आजा राम, भोले राम,

मोह माया है झूटा बन्धन,
त्याग उसे तू प्राणी,
राम नाम की ज्योत जला कर,
अपना भाग जगा ले,
मन में राम बसा ले,

राम भजन में डूब के अपनी,
निर्मल कर ले काया,
राम नाम से प्रीत लगा के,
जीवन पार लगा ले,
मन में राम बसा ले,

बोलो राम, जय जय राम, बोलो राम
जन्म सफल होगा बन्दे,
मन में राम बसा ले,
भोले राम, आजा राम, भोले राम,

Bolo Ram Man Me Ram Basa Le Bhajan in English

Bolo Ram, Jay Jay Ram, Bolo Ram, Janm Saphal Hoga Bande, Man Mein Ram Basa Le |
यह भी जानें

BhajanHanuman BhajanShri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanJagjit Singh Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

शरण में आये हैं हम तुम्हारी: भजन

शरण में आये हैं हम तुम्हारी, दया करो हे दयालु भगवन। सम्हालो बिगड़ी दशा हमारी..

कभी राम बनके, कभी श्याम बनके भजन

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना..

जन्माष्टमी भजन: नन्द के आनंद भयो

आनंद उमंग भयो, जय हो नन्द लाल की। नन्द के आनंद भयो, जय कन्हिया लाल की॥

बनवारी रे! जीने का सहारा तेरा नाम रे: भजन

बनवारी रे, जीने का सहारा तेरा नाम रे, मुझे दुनिया वालों से क्या काम रे ॥ झूठी दुनिया, झूठे बंधन...

फंसी भंवर में थी मेरी नैया - श्री श्याम भजन

फंसी भंवर में थी मेरी नैया, चलाई तूने तो चल पड़ी है । पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत..

चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां: शब्द कीर्तन

सिमर सिमर नाम जीवा, तन मन होए निहाला, चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां

तुम शरणाई आया ठाकुर: शब्द कीर्तन

तुम शरणाई आया ठाकुर ॥ उतरि गइओ मेरे मन का संसा, जब ते दरसनु पाइआ ॥

🔝