देख लिया संसार हमने देख लिया (Dekh Liya Sansar Hamne Dekh Liya)


देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया,
सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

तन निरोग धन जेब में जब तक,
मन से सेवा करोगे जब तक
मानेगा परिवार हमने देख लिया,
देख लिया संसार हमने देख लिया ।
देख लिया संसार हमने देख लिया ।

जिस जिस का विश्वास किया है,
उसने हमें निरास किया है
बनकर रिश्तेदार हमने देख लिया,
देख लिया संसार हमने देख लिया ।
देख लिया संसार हमने देख लिया ।

कही चोट लगजाये न तन को,
सभी समझते है निर्धन को
गिरती हुई दीवार हमने देख लिया,
देख लिया संसार हमने देख लिया ।
देख लिया संसार हमने देख लिया ।

प्रतिभा का कुछ मोल नहीं है,
सफल सिध्द अनमोल वही है
जिसका प्रबल प्रचार हमने देख लिया,
देख लिया संसार हमने देख लिया ।
देख लिया संसार हमने देख लिया ।

संतो का संदेश यही है
मूल मंत्र हरि ओम यही है
हरि सुमिरन है सार हमने देख लिया
देख लिया संसार हमने देख लिया ।
देख लिया संसार हमने देख लिया ।

देख लिया संसार हमने देख लिया,
सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

Dekh Liya Sansar Hamne Dekh Liya in English

Dekh Liya Sansar Humne Dekh Liya, Sab Matlab Ke Yaar Humne Dekh Liya |

Bhajan Shri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navami BhajanVijay Dashami BhajanSunderkand BhajanRamcharitmanas Katha BhajanAkhand Ramayana BhajanRajeshwaranand Ji Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार - भजन

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में, है जीत तुम्हारे हाथों में...

तू प्यार का सागर है

तू प्यार का सागर है, तेरी एक बूँद के प्यासे हम। लौटा जो दिया तूने, चले जायेंगे जहां से हम..

प्रभु को अगर भूलोगे बन्दे, बाद बहुत पछताओगे

प्रभु को अगर भूलोगे बंदे, बाद बहुत पछताओगे ॥

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है: भजन

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है। ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।

सावन की बरसे बदरिया: भजन

सावन की बरसे बदरिया, माँ की भीगी चुनरीया, भीगी चुनरिया माँ की...

मैं परदेशी हूँ पहली बार आया हूँ: भजन

मैं परदेशी हूँ पहली बार आया हूँ, दर्शन करने मइया के दरबार आया हूँ...

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल - भजन

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल। केशव माधव हरि हरि बोल॥

🔝