करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

भजन: मेरी विनती यही है! राधा रानी (Meri Binti Yahi Hai Radha Rani)


मेरी विनती यही है राधा रानी
कृपा बरसाए रखना
हे कृपा बरसाए रखना
॥ हे महारानी कृपा बरसाए...॥
मेरी विनती यही है राधा रानी...

हो मुझे तेरा ही सहारा महारानी
चरणो से लिपटाये रखना,
कृपा बरसाए रखना
॥ हे महा रानी कृपा बरसाए...॥

छोड़ दुनिया के झूठे नाते सारे
किशोरी तेरे दर पे आ गया,
कृपा बरसाए रखना
॥ हे महा रानी कृपा बरसाए..॥

मैंने तुमको पुकारा बृजरानी
जग से बचाये रखना,
कृपा बरसाए रखना
॥ हे महा रानी कृपा बरसाए..॥
श्री राधे, श्री राधे, श्री राधे
श्री राधे, श्री राधे, श्री राधे

इन सासों की माला में
सदा ही तेरा नाम सिमरूँ
लगी लगन श्री राधा नाम वाली
लगन ये लगाये रखना,
कृपा बरसाए रखना
॥ हे महा रानी कृपा बरसाए...॥
श्री राधा, श्री राधा, श्री राधा
श्री राधा, श्री राधा, श्री राधा

तेरे नाम के रंग में रंग के
मैं डोलूँ बृजगलियन में
हे राधा रानी हे महा रानी
कहें चित्र विचित्र श्यामा प्यारी
वृंदावन बसाये रखना,
कृपा बरसाए रखना
॥ हे महा रानी कृपा बरसाए...॥
श्री राधा, श्री राधा, श्री राधा
श्री राधा, श्री राधा, श्री राधा

यह भी जानें

BhajanRadha BhajanRadha Rani BhajanBrij BhajanKrishna BhajanRadhashtami BhajanJanmashtami BhajanChitralekhaji Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

जय जय सुरनायक जन सुखदायक

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

भजन: राम कहने से तर जाएगा!

राम कहने से तर जाएगा, पार भव से उतर जायेगा। उस गली होगी चर्चा तेरी...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

भजन: रघुपति राघव राजाराम

रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम, गंगा तुलसी शालग्राम...

भजन: भेजा है बुलावा, तूने शेरा वालिए

भेजा है बुलावा, तूने शेरा वालिए, ओ मैया तेरे दरबार, में हाँ तेरे दीदार, कि मैं आऊंगा, कभी न फिर जाऊँगा...

भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की। जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!

साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार। तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

top