राधा कौन से पुण्य किये तूने: भजन (Radha Kon Se Punya Kiye Tune)


राधा कौन से पुण्य किये तूने: भजन

राधा कौन से पुण्य किये तूने,
जो हरि रोज तेरे घर आते हैं ॥

राधा जब सोलह शृंगार करे,
प्रभ दर्पण आप दिखाते है,
राधा कौन से पुण्य किये तूने,
जो हरि रोज तेरे घर आते हैं ॥

राधा जब पनघट पे जावे,
प्रभु मटकी आप उठाते है,
राधा कौन से पुण्य किये तूने,
जो हरि रोज तेरे घर आते हैं ॥

राधा जब भोग तैय्यार करे,
हरी आकर भोग लगाते है,
राधा कौन से पुण्य किये तूने,
जो हरि रोज तेरे घर आते हैं ॥

राधा जब कुँजन मे जावे,
प्रभु आकर रास रचाते है,
राधा कौन से पुण्य किये तूने,
जो हरि रोज तेरे घर आते हैं ॥

राधा कौन से पुण्य किये तूने,
जो हरि रोज तेरे घर आते हैं ॥

Radha Kon Se Punya Kiye Tune in English

Radha Kaun Se Puny Kiye Tune, Jo Hari Roj Tere Ghar Aate Hain ॥ Radha Jab Solah Shringar Kare,...
यह भी जानें

Bhajan Shri Krishna BhajanBrij BhajanJanmashtami BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanShri Radha Krishna BhajanFagan Mela BhajanShri Shayam BhajanKhatu Shyam BhajanIskcon Bhajan

अन्य प्रसिद्ध राधा कौन से पुण्य किये तूने: भजन वीडियो

राधा कौन से पुण्य किये तूने - डॉ अनुराधा पौडवाल

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मीठे रस से भरीयो री, राधा रानी लागे: भजन

मीठे रस से भरीयो री, राधा रानी लागे, महारानी लागे...

मैं भोला पर्वत का: शिव भजन

मैं भोला पर्वत का, रै तू राणी महला की, तेरी मेरी पार पड़ै ना, बेशक लिखी पहला की..

मेरा भोला है भंडारी: शिव भजन

मेरा भोला है भंडारी करता नंदी की सवारी, सबना दा रखवाला ओ शिवजी डमरूवाला जी..

लागी लगन शंकरा: शिव भजन

लागी मेरी प्रीत तेरे संग, मेरे शंकरा । लागी मेरी प्रीत तेरे संग, मेरे शंकरा...

गंगा किनारे चले जाणा: भजन

मिटदि है मूरत, जिन्दी ये वाणी है, गंगा किनारे चले जाणा, मुड़के फिर नहीं आणा..

बेद की औषद खाइ कछु न करै: मॉं गंगा माहात्म्य

माँ गंगा मैया का गरिमामय माहात्म्य॥ बेद की औषद खाइ कछु न करै बहु संजम री सुनि मोसें ।..

मंदिर

🔝