आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते: भजन (Aaye Hain Prabhu Shri Ram Bharat Fule Na Samate)


आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते: भजन

आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।
आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।

तन पुलकित मुख बोल ना आए,
प्रभु पद कमल रहे हिए लाये ।
भूमि पड़े हैं भरत जी,
उन्हें रघुनाथ उठाते हैं ॥

आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।
आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।

प्रेम सहित निज हिय से लगाए,
नैनो में तब जल भर आए ।
मिल के गले चारों भैया,
खुशी के आंसू बहाते हैं ॥

आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।
आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।

नर नारी सब मंगल गावे,
नव से सुमन देव बरसावे ।
भक्त सभी जन मिलके,
अवध में दीपक जलाते हैं ॥

आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।
आए हैं प्रभु श्री राम,
भरत फूले ना समाते हैं ।

Aaye Hain Prabhu Shri Ram Bharat Fule Na Samate in English

Aaye Hain Prabhu Shri Ram, Bharat Fule Na Samate Hain । Tan Pulakit Mukh Bol Na Aaye
यह भी जानें

Bhajan Shri Ram BhajanJanki BhajanMata Sita BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

तेरी जय हो गणेश - भजन

तेरी जय हो गणेश, किस जननी ने तुझे जनम दियो है,..

घर में पधारो गजानन जी - भजन

घर में पधारो गजाननजी, मेरे घर में पधारो, ग्रह प्रवेश के समय गाए जाने वाला पॉपुलर श्री गणेश भजन...

रख लाज मेरी गणपति - भजन

रख लाज मेरी गणपति, अपनी शरण में लीजिए । कर आज मंगल गणपति..

नमामि श्री गणराज दयाल: भजन

नमामि श्री गणराज दयाल, करत हो भक्तन का प्रतिपाल...

कदम कदम पर रक्षा करता: भजन

कदम कदम पर रक्षा करता, घर घर करे उजाला उजाला, खाटू वाला खाटू वाला, ओ लीले घोड़े वाला, खाटू वाला खाटू वाला, ओ लीले घोड़े वाला ॥

प्रभु जो तुम्हे हम, बताकर के रोये: भजन

प्रभु जो तुम्हे हम, बताकर के रोये, बताकर के रोये, उसे दिल में कब से, दबा कर के रोये, प्रभु जो तुम्हें हम, बताकर के रोये ॥

चटक मटक चटकीली चाल, और ये घुंघर वाला बाल: भजन

चटक मटक चटकीली चाल, और ये घुंघर वाला बाल, तिरछा मोर मुकट सिर पे, और ये गल बैजंती माल, तेरी सांवरी सुरतिया, पे दिल गई हार, तेरी सांवरी सुरतिया, पे दिल गई हार ॥

मंदिर

Download BhaktiBharat App