भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा: भजन (Bhajan: Bhari Unki Ankho Mein Hai Kitni Karuna)


भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा: भजन

भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा
जाकर सुदामा भिखारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

कृपा कितनी करते हैं शरणागतों पे
कृपा कितनी करते हैं शरणागतों पे

बता सकते हैं यदि, बता सकते हैं यदि
बता सकते हैं यदि, मिलेंगे विभीषण

पतितों को पावन, वो कैसे बनाते
जटायु सरिस, माँसाहारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

प्रभु कैसे सुनते हैं, दुखियों की आहें
तुम्हें ज्ञात हो राजा, बलि की कहानी

निराधार का कौन, आधार है जग में
ये प्रश्न द्रुपद दुलारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

छ्मा शीलता उनमें, कितनी भरी है
बताएँगे भृगुजी, वो सब जानते हैं

हृदय उनका भावों का, है कितना भूंखा
विदुर सबरी से, बारी बारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

Bhajan: Bhari Unki Ankho Mein Hai Kitni Karuna in English

Bhari Unki Ankho Mein Hai, Kitani Karuna, Jakar Sudama Bhikari Se Poochho...
यह भी जानें

BhajanShri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanShri Krishna BhajanSita Navmi BhajanHanuman Janmotsav BhajanPrem Bhushan Ji Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝