हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता (Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta)


हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता

हमारे हैं श्री गुरुदेव,
हमें किस बात की चिंता,
हमारे साथ हैं गुरुदेव,
हमें किस बात की चिंता ।

चरण में रख दिया जब माथ,
हमें किस बात की चिंता ॥
मेरे स्वामी को रहती है,
मेरी हर बात की चिंता ।
मेरे बाबा को रहती है,
मेरी हर बात की चिंता ॥

किया करते हो तुम दिन रात,
क्यूँ बिन बात की चिंता ।
रहे हर स्वांस में भगवन,
तेरे इक नाम की चिंता ॥

हुई इस दास पर कृपा,
बनाया दास प्रभु अपना ।
उन्ही के हाथों में जब हाथ,
हमे किस बात की चिंता ॥

हमारे हैं श्री गुरुदेव,
हमें किस बात की चिंता,
हमारे साथ हैं गुरुदेव,
हमें किस बात की चिंता ।

गुरुदेव तुम्हारी जय होवे ।
मेरे बाबा तुम्हारी जय होवे ॥

Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta in English

Hamare Hain Shri Gurudev, Hamen Kis Baat Ki Chinta, Hamare Sath Hain Gurudev, Hamen Kis Baat Ki Chinta |
यह भी जानें

BhajanGuru BhajanGurudev BhajanGuru Purnima BhajanVyasa Purnima BhajanDigital Baba BhajanSwami Ram Shankar Bhajan

अन्य प्रसिद्ध हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता वीडियो

Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta - Poonam Didi


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝