सांवरिया थारी याद में, अँखियाँ भिगोया हाँ: भजन (Sawariya Thari Yaad Me Akhiyan Bhigoya Haan)


सांवरिया थारी याद में, अँखियाँ भिगोया हाँ: भजन

सांवरिया थारी याद में,
अँखियाँ भिगोया हाँ,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा ॥

म्हारी जीवन नैया थारे,
चरणा शीश का दानी,
हाथ लगा दो पार करा दो,
कर दो ना थे मेहरबानी,
खाटू का राजा कद म्हारे,
सिर पर हाथ फिराओगा,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा ॥

जद जद थारी ज्योत जगाई,
हिवड़ो भर भर आयो,
बाबो म्हारे सागे कोणी,
सोच के जी मचलायो,
बाबा बतलाओ कद मेरो,
मन को भरम थे तोड़ोगा,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा ॥

जग यो सारो जाणे थारी,
म्हारी प्रीत पुराणी,
म्हा पर के के बित्यो बाबा,
थासु कुछ नहीं छानी,
कुणाल यो हारयो कद वाकी,
बोलो जीत कराओगा,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा ॥

सांवरिया थारी याद में,
अँखियाँ भिगोया हाँ,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा,
कद आंसू पोछण ताईं,
थे आवोगा ॥

Sawariya Thari Yaad Me Akhiyan Bhigoya Haan in English

Sanwariya Thari Yaad Mein, Ankhiyan Bhigoya Haan, Kad Aansu Pochhan Taain, The Aavoga, Kad Aansu Pochhan Taain, The Aavoga ॥
यह भी जानें

Bhajan Shri Krishna BhajanBhrij BhajanBal Krishna BhajanLaddu Gopal BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanShri Shyam BhajanIskcon BhajanPhagun Mela BhajanRadhashtami BhajanBanke Bihari Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel