तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन (Tere Pujan Ko Bhagwan)


तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन

उत्तर प्रदेश के व्रज क्षेत्र में यह भजन महिला भजन मंडली द्वारा ढोलक पे गये जाने वाला प्रसिद्ध भजन है।

तेरे पूजन को भगवान,
बना मन मंदिर आलीशान ।

किसने जानी तेरी माया,
किसने भेद तुम्हारा पाया ।
हारे ऋषि मुनि कर ध्यान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

तू ही जल में तू ही थल में,
तू ही मन में तू ही वन में ।
तेरा रूप अनूप महान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

तू हर गुल में तू बुलबुल में,
तू हर डाल के हर पातन में ।
तू हर दिन में मूर्तिमान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

तूने राजा रंक बनाए,
तूने भिक्षुक राज बैठाये ।
तेरी लीला अजब महान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

झूठे जग की झूठी माया,
मूरख इसमें क्यों भरमाया ।
कर जीवन का शुभ कल्याण,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

तेरे पूजन को भगवान,
बना मन मंदिर आलीशान ।

---- Extra Lines ----
किस ने देखि तेरी सूरत,
कौन बनावे तेरी मूरत ।
तू है निराकार भगवान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

पर्वत घाटी नदी समंदर,
तू रमता इन सब के अन्दर ।
तेरे बस में सकल जहान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

तू हैं वन में, तो प्राणन में,
तू तरु तरु के पातन में ।
कोई ना दूजा तेरे सामान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

जल में थल में तू ही समाया,
सब जग तेरा जलवा छाया ।
तू है, घट घट के दरमियान,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

सूरज तेरी महिमा गावे,
चंदा तुझ पर बलि बलि जावे ।
इश्वर कर सब का कल्याण,
बना मन मंदिर आलीशान ॥

Tere Pujan Ko Bhagwan in English

Tere Pujan Ko Bhagwan, Bana Man Mandir Alishan, Kisne Jani Teri Maya
यह भी जानें

In the Vraj region of Uttar Pradesh this bhajan is a famous hymn to be given to dholak by the lady bhajan sangeet mandal.

BhajanShri Vishnu BhajanShri Ram BhajanShri Krishna BhajanJanmashtami BhajanBrij BhajanLaddu Gopal BhajanTripti Saqya Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝