अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार - भजन (Ab Saump Diya Is Jeevan Ka Sab Bhar Tumhare Hathon Me)


अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार - भजन

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में,
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में ॥

मेरा निश्चय है बस एक यही,
एक बार तुम्हे पा जाऊं मैं,
अर्पण करदूँ दुनिया भर का,
सब प्यार तुम्हारे हाथों में ॥

जो जग में रहूँ तो ऐसे रहूँ,
जैसे जल में कमल का फूल रहे,
मेरे सब गुण दोष समर्पित हों,
करतार तुम्हारे हाथों में ॥

यदि मानव का मुझे जन्म मिले,
तो तेरे चरणों का पुजारी बनूँ,
इस पूजा की एक एक रग का,
हो तार तुम्हारे हाथों में ॥

जब जब संसार का कैदी बनू,
निष्काम भाव से कऱम करूँ,
फिर अंत समय में प्राण तजूं,
निराकार तुम्हारे हाथों में ॥

मुझ में तुझ में बस भेद यही,
मैं नर हूँ तुम नारायण हो,
मैं हूँ संसार के हाथों में,
संसार तुम्हारे हाथों में ॥

अब सौंप दिया इस जीवन का,
सब भार तुम्हारे हाथों में,
है जीत तुम्हारे हाथों में,
और हार तुम्हारे हाथों में ॥

Ab Saump Diya Is Jeevan Ka Sab Bhar Tumhare Hathon Me in English

Ab Saump Diya Is Jeevan Ka, Sab Bhaar Tumhare Hathon Mein
यह भी जानें

Bhajan Shri Ram BhajanShri Raghuvar BhajanRam Navmi BhajanSundarkand BhajanRamayan Path BhajanVijayadashami Bhajan BhajanMata Sita BhajanRam Sita Vivah Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शंकर शिव शम्भु साधु सन्तन सुखकारी: भजन

शंकर शिव शम्भु साधु सन्तन सुखकारी॥ निश दिन सिमरन करते, नाम पुण्यकारी॥

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन

ॐ नमः शिवाय, सत्य है ईश्वर, शिव है जीवन, सुन्दर यह संसार है। तीनो लोक हैं तुझमे, तेरी माया अपरम्पार है॥

शिव अद्भुत रूप बनाए: भजन

शिव अद्भुत रूप बनाए, जब ब्याह रचाने आए। भुत बेताल थे..

हे शिव शंकर परम मनोहर: भजन

हे शिव शंकर परम मनोहर सुख बरसाने वाले, दुःख टालते भव से तार ते शम्भू भोले भाले..

दानी बड़ा ये भोलेनाथ, पूरी करे मन की मुराद!

दानी बड़ा ये भोलेनाथ, पूरी करे मन की मुराद, देख ले माँग के माँग के...

महल को देख डरे सुदामा: भजन

महल को देख डरे सुदामा, का रे भई मोरी राम मड़ईया, कहाँ के भूप उतरे..

अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो: भजन

अरे द्वारपालों कहना से कह दो, दर पे सुदामा गरीब आ गया है।

मंदिर

🔝