भक्ति की झंकार उर के - प्रार्थना (Bhakti Ki Jhankar Urke Ke Taron Main: Prarthana)


भक्ति की झंकार उर के - प्रार्थना

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ।
भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

लौट जाए स्वार्थ, कटुता,
द्वेष, दम्भ निराश होकर ।
शून्य मेरे मन भवन में,
देव! इतना प्यार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

बात जो कह दूं, हृदय में,
वो उतर जाये सभी के ।
इस निरस मेरी गिरा में,
वह प्रभाव अपार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

कृष्ण के सदृश सुदामा,
प्रेमियों के पांव धोने ।
नयन में मेरे तरंगित,
अश्रु पारावार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

पीड़ितों को दूँ सहारा,
और गिरतों को उठा लूँ ।
बाहुओं में शक्ति ऐसी,
ईश सर्वाधार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

रंग झूठे सब जगत के,
ये "प्रकाश" विचार देखा ।
क्षुद्र जीवन में सुघड़ निज,
रंग परमोदार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

Bhakti Ki Jhankar Urke Ke Taron Main: Prarthana in English

Bhakti Ki Jhankar Ur Ke, Taron Mein Karttar Bhar Do । Baat Jo Kah Doon, Hriday Mein..
यह भी जानें

Bhajan Arya Samaj BhajanVed BhajanVedic BhajanHawan BhajanYagya BhajanMotivational BhajanMorning BhajanDainik BhajanDaily BhajanPrarthana BhajanVandana BhajanJain BhajanJainism BhajanSchool BhajanInspirational BhajanShanti Dham BhajanGayatri BhajanGayatri Paiwar BhajanAWGP Pragya Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel