दे प्रभो वरदान ऐसा: प्रार्थना (De Prabhu Vardan Yesa: Prarthana)


दे प्रभो वरदान ऐसा: प्रार्थना

दे प्रभो वरदान ऐसा,
दे विभो वरदान ऐसा ।
भूल जाऊं भेद सब,
अपना पराया मान तैसा ॥

मुक्त होऊं बन्धनों से,
मोह माया पाश टूटे ।
स्वार्थ, ईर्षा, द्वेष, आदिक,
दुर्गुणों का संग छूटे ॥

प्रेम मानस में भरा हो,
हो हृदय में शान्ति छायी ।
देखता होऊं जिधर मैं,
दे उधर तू ही दिखायी ॥

नष्ट हो सब भिन्नता, फिर,
बैर और विरोध कैसा ।
भूल जाऊं भेद सब,
अपना पराया मान तैसा ॥

दे प्रभो वरदान ऐसा,
दे विभो ! वरदान ऐसा ॥

ज्ञान के आलोक से,
उज्ज्वल बने यह चित्त मेरा ।
लुप्त हो अज्ञान का,
अविचार का छाया अंधेरा ॥

हे प्रभो परमार्थ के शुभ-
कार्य में रुचि नित्य मेरी ।
दीन दुखियों की कुटी में,
ही मिले अनुभूति तेरी ॥

दूसरों के दुःख को,
समझूं सदा मैं आप जैसा ।
भूल जाऊं भेद सब,
अपना पराया मान तैसा ॥

दे प्रभो वरदान ऐसा,
दे विभो ! वरदान ऐसा ॥

हे अभय अविवेक तज शुचि,
सत्य पथ गामी बनूं मैं ।
आपदाओं से भला क्या,
काल से भी न डरूं मैं ॥

सत्य को ही धर्म मानूं,
सत्य को ही साधना मैं ।
सत्य के ही रूप में,
तेरी करूं आराधना मैं ॥

भूल जाऊं भेद सब,
अपना पराया मान तैसा ॥
दे प्रभो वरदान ऐसा,
दे विभो ! वरदान ऐसा ॥

De Prabhu Vardan Yesa: Prarthana in English

De Prabho Vardan Aisa, De Vibho Vardan Aisa । Bhool Jaoon Bhed Sab..
यह भी जानें

Bhajan Arya Samaj BhajanVed BhajanVedic BhajanHawan BhajanYagya BhajanMotivational BhajanMorning BhajanDainik BhajanDaily BhajanPrarthana BhajanVandana BhajanJain BhajanJainism BhajanSchool BhajanInspirational BhajanShanti Dham BhajanGayatri BhajanGayatri Paiwar BhajanAWGP Pragya Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel