close this ads

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली।


राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली।
कृष्ण नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली।

ले लो रे कोई राम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
ले लो रे कोई श्याम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।

माया के दीवानों सुन लो, एक दिन ऐसा आएगा।
धन दौलत और माल खजाना, यही पड़ा रह जायेगा।
सुन्दर काया मिट्टी होगी, चर्चा होगी गली गली॥
बोलो राम बोलो राम, बोलो राम राम राम।

ले लो रे कोई राम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
ले लो रे कोई श्याम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
॥ राम नाम के हीरे मोती...॥

क्यों करता तू मेरा मेरी, यह तो तेरा मकान नहीं।
झूठे जन में फंसा हुआ है, वह सच्चा इंसान नहीं।
जग का मेला दो दिन का है, अंत में होगी चला चली॥

ले लो रे कोई राम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
ले लो रे कोई श्याम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
॥ राम नाम के हीरे मोती...॥

जिन जिन ने यह मोती लुटे, वह तो माला माल हुए।
धन दौलत के बने पुजारी, आखिर वह कंगाल हुए।
चांदी सोने वालो सुन लो, बात सुनाऊँ खरी खरी॥
बोलो राम बोलो राम, बोलो राम राम राम।

ले लो रे कोई राम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
ले लो रे कोई श्याम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
॥ राम नाम के हीरे मोती...॥

दुनिया को तू कब तक पगले, अपनी कहलायेगा।
ईश्वर को तू भूल गया है, अंत समय पछतायेगा।
दो दिन का यह चमन खिला है, फिर मुरझाये कलि कलि॥
बोलो राम बोलो राम, बोलो राम राम राम।

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली।
कृष्ण नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली।

ले लो रे कोई राम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।
ले लो रे कोई श्याम का प्यारा, शोर मचाऊँ गली गली।

बोलो राम बोलो राम, बोलो राम राम राम।
बोलो राम बोलो राम, बोलो राम राम राम।


If you love this article please like, share or comment!

भजन: हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में...

हरी नाम सुमिर सुखधाम, हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में जीवन दो दिन का...

सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया!

सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया। दिल दीवाना हो गया...

भजन: तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान।

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान। किसने जानी तेरी माया...

राम का सुमिरन किया करो!

राम का सुमिरन किया करो, प्रभु के सहारे जिया करो...

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी

ब्रजराज ब्रजबिहारी, गोपाल बंसीवारे, इतनी विनय हमारी, वृन्दा-विपिन बसा ले...

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल। केशव माधव हरि हरि बोल॥

धन जोबन और काया नगर की...

धन जोबन और काया नगर की, कोई मत करो रे मरोर॥ - विधि देशवाल

भजन: आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..

आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.., रोवे अकेली मीरा..आ.., आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.. - विधि देशवाल

भजन: वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे...

वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे। पर दुःखे उपकार करे तो ये...

Latest Mandir

^
top