close this ads

प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता!


* त्राता: का अर्थ, वह जो त्राण करता हो, रक्षा करने वाला व्यक्ति।
कुछ जगहों पर त्राता की जगह दाता प्रयोग में लाया गया है।

हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

प्रेम के सिन्धु, दीन के बन्धु, दु:ख दारिद्र विनाशन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

नित्य अखंड अनंन्त अनादि , पूरण ब्रह्म सनातन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

जग आश्रय जग-पति जग-वन्दन, अनुपम अलख निरंजन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

प्राण सखा त्रिभुवन प्रति-पालक, जीवन के अवलंबन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।
हे सुख शांति निकेतन हे, हे सुख शांति निकेतन हे।

Available in English - He Jag Trata Vishwa Vidhata
Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He। Prem Ke Sindhu Deen Ke Bandho...
ये भी जानें

VandanaSchool VandanaCollage VandanaPrayer Vandana


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन!

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

प्रार्थना: दया कर दान विद्या का!

देश के एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय में बच्चों द्वारा सुबह...

हे जग स्वामी, अंतर्यामी, तेरे सन्मुख आता हूँ!

हे जग स्वामी, अंतर्यामी, तेरे सन्मुख आता हूँ। सन्मुख आता, मैं शरमाता...

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे!

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे, त्वया हिन्दुभूमे सुखं वर्धितोऽहम्...

श्री हनुमान बाहुक

असहनीय कष्टों से हताश होकर अन्त में उसकी निवृत्ति के लिये गोस्वामी तुलसीदास जी ने हनुमानजी की वन्दना आरम्भ की जो कि ४४ पद्यों के हनुमानबाहुक प्रसिद्ध स्तोत्र लिखा।

श्री हनुमान साठिका

जय जय जय हनुमान अडंगी। महावीर विक्रम बजरंगी॥ जय कपीश जय पवन कुमारा। जय जगबन्दन सील अगारा॥

श्री बजरंग बाण पाठ।

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान। तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥

संकट मोचन हनुमानाष्टक

लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर। वज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर ॥

श्री राम स्तुति: नमामि भक्त वत्सलं

नमामि भक्त वत्सलं । कृपालु शील कोमलं ॥ भजामि ते पदांबुजं...

^
top