close this ads

प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता!


हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

प्रेम के सिन्धु, दीन के बन्धु, दु:ख दारिद्र विनाशन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

नित्य अखंड अनंन्त अनादि , पूरण ब्रह्म सनातन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

जग आश्रय जग-पति जग-वन्दन, अनुपम अलख निरंजन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

प्राण सखा त्रिभुवन प्रति-पालक, जीवन के अवलंबन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।
हे सुख शांति निकेतन हे, हे सुख शांति निकेतन हे।

Read Also:
» हम को मन की शक्ति देना | ऐ मालिक तेरे बंदे हम! | वह शक्ति हमें दो दया निधे! | या कुन्देन्दुतुषारहारधवला | प्रार्थना: दया कर दान विद्या का हमे परमात्मा देना! | भजन: इतनी शक्ति हमें देना दाता
» भोजन मन्त्र: ॐ सह नाववतु। | प्रातः स्मरण - दैनिक उपासना | शांति पाठ | विद्यां ददाति विनयं! | येषां न विद्या न तपो न दानं

Hindi Version in English

Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He।

Prem Ke Sindhu Deen Ke Bandho, Dukh Daridra Vinashan He।
Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He।

Nitya Akhand Anant Anaadi, Puran Brahma Sanatan He।
Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He।

Jag Ashray Jagpati Jagvandan, Anupam Alakh Niranjan He।
Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He।

Pran Sakha Tribhuvan Pratipalak, Jeevan Ke Avalamban He।
Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He।

Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He।
Hey Sukh Shanti Niketan He, Hey Sukh Shanti Niketan He।

VandanaSchool VandanaCollage Vandana


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

भजन: माँ शारदे वंदना, हे शारदे माँ।

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ, अज्ञानता से हमें तार दे माँ।

संकट मोचन हनुमानाष्टक

लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर। वज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर ॥

श्री हनुमान बाहुक

असहनीय कष्टों से हताश होकर अन्त में उसकी निवृत्ति के लिये गोस्वामी तुलसीदास जी ने हनुमानजी की वन्दना आरम्भ की जो कि ४४ पद्यों के हनुमानबाहुक प्रसिद्ध स्तोत्र लिखा।

श्री हनुमान साठिका

जय जय जय हनुमान अडंगी। महावीर विक्रम बजरंगी॥ जय कपीश जय पवन कुमारा। जय जगबन्दन सील अगारा॥

प्रार्थना: दया कर दान विद्या का!

देश के एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय में बच्चों द्वारा सुबह...

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों...

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों, द्विज ब्रह्म तेजधारी। क्षत्रिय महारथी हों, अरिदल विनाशकारी॥...

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे!

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे, त्वया हिन्दुभूमे सुखं वर्धितोऽहम्।...

जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

यही है प्रार्थना प्रभुवर!

यही है प्रार्थना प्रभुवर! जीवन ये निराला हो। परोपकारी, सदाचारी व लम्बी आयुवालो हो॥

ऐ मालिक तेरे बंदे हम!

ऐ मालिक तेरे बंदे हम, ऐसे हो हमारे करम, नेकी पर चले और बदी से टले, ताकी हँसते हुये निकले दम...

^
top