प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता! (He Jag Trata Vishwa Vidhata)


* त्राता: का अर्थ, वह जो त्राण करता हो, रक्षा करने वाला व्यक्ति।
कुछ जगहों पर त्राता की जगह दाता प्रयोग में लाया गया है।

हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

प्रेम के सिन्धु, दीन के बन्धु, दु:ख दारिद्र विनाशन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

नित्य अखंड अनंन्त अनादि , पूरण ब्रह्म सनातन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

जग आश्रय जग-पति जग-वन्दन, अनुपम अलख निरंजन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

प्राण सखा त्रिभुवन प्रति-पालक, जीवन के अवलंबन हे।
हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।

हे जग त्राता विश्व विधाता, हे सुख शांति निकेतन हे।
हे सुख शांति निकेतन हे, हे सुख शांति निकेतन हे।

He Jag Trata Vishwa Vidhata in English

Hey Jag Trata Vishwa Vidhata, Hey Sukh Shanti Niketan He। Prem Ke Sindhu Deen Ke Bandho...
यह भी जानें

VandanaSchool VandanaCollage VandanaPrayer Vandana


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: जय राम रमा रमनं समनं।

जय राम राम रमनं समनं। भव ताप भयाकुल पाहि जनम॥ अवधेस सुरेस रमेस बिभो।...

श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन!

श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं। नव कंज लोचन कंज मुख...

प्रार्थना: दया कर दान विद्या का!

देश के एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय में बच्चों द्वारा सुबह...

प्रार्थना: वह शक्ति हमें दो दया निधे!

उत्तर प्रदेश के साथ अधिकतर उत्तर भारत के सरकारी स्कूल में 1961 से ही गाई जाने वाली सबसे प्रसिद्ध प्रार्थना। वह शक्ति हमें दो दया निधे...

भगवान श्री चित्रगुप्त जी स्तुति - जय चित्रगुप्त यमेश तव!

जय चित्रगुप्त यमेश तव, शरणागतम् शरणागतम्। जय पूज्यपद पद्मेश तव, शरणागतम् शरणागतम्॥

भजन: माँ शारदे वंदना, हे शारदे माँ।

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ, अज्ञानता से हमें तार दे माँ।

आरती: माँ सरस्वती वंदना

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता, या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।...

प्रार्थना: हे प्रभो आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए!

हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिये, शीघ्र सारे दुर्गुणों को दूर हमसे कीजिए । लीजिये हमको शरण में...

ऐ मालिक तेरे बंदे हम!

ऐ मालिक तेरे बंदे हम, ऐसे हो हमारे करम, नेकी पर चले और बदी से टले, ताकी हँसते हुये निकले दम...

संकट मोचन हनुमानाष्टक

बाल समय रवि भक्षी लियो तब।.. लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।...

🔝