कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ (Kailash Ke Nivasi Namo Bar Bar Hoon)


कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ

कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ,
आये शरण तिहारी प्रभु तार तार तू,
भगतो को कभी शिव ने निराश न किया,
माँगा जिसे चाहा वही वरदान दे दियां,
बड़ा है तेरा दायरा बड़ा दातार तू,
आये शरण तिहारी प्रभु तार तार तू,

बखान क्या करू मैं रखो की ढेर का,
चुटकी कबूत में है खजाना कुबेर का,
हे गंगा धार मुक्ति धार ओम कार तू,
आये शरण तिहारी प्रभु तार तार तू,

क्या क्या नहीं दिया है ये हम प्रमाण है,
तेरी किरपा के आसरे सारा जहां है,
ज़हर पिया जीवन दिया कितना उधार तू ,
आये शरण तिहारी प्रभु तार तार तू,

तेरी किरपा बिना न हिले इक भी अड़हु,
लेते है सांस तेरी दया से तनु तनु,
करदे ठाठ इक वार मुझको निहार तू,
आये शरण तिहारी प्रभु तार तार तू,

Kailash Ke Nivasi Namo Bar Bar Hoon in English

Kailash Ke Nivasi Namo Bar Bar Hoon, Aaye Sharan Tihari Prabhu Tar Tar Tu
यह भी जानें

Bhajan Shiv BhajanBholenath BhajanMahadev BhajanShivaratri BhajanSavan BhajanMonday BhajanSomvar BhajanSolah Somvar BhajanTerash BhajanTriyodashi BhajanPrem Prakash Dubey Bhajan

अन्य प्रसिद्ध कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ वीडियो

Master Rana

Jaya Kishori Ji

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

तेरी जय हो गणेश - भजन

तेरी जय हो गणेश, किस जननी ने तुझे जनम दियो है,..

घर में पधारो गजानन जी - भजन

घर में पधारो गजाननजी, मेरे घर में पधारो, ग्रह प्रवेश के समय गाए जाने वाला पॉपुलर श्री गणेश भजन...

रख लाज मेरी गणपति - भजन

रख लाज मेरी गणपति, अपनी शरण में लीजिए । कर आज मंगल गणपति..

नमामि श्री गणराज दयाल: भजन

नमामि श्री गणराज दयाल, करत हो भक्तन का प्रतिपाल...

कदम कदम पर रक्षा करता: भजन

कदम कदम पर रक्षा करता, घर घर करे उजाला उजाला, खाटू वाला खाटू वाला, ओ लीले घोड़े वाला, खाटू वाला खाटू वाला, ओ लीले घोड़े वाला ॥

प्रभु जो तुम्हे हम, बताकर के रोये: भजन

प्रभु जो तुम्हे हम, बताकर के रोये, बताकर के रोये, उसे दिल में कब से, दबा कर के रोये, प्रभु जो तुम्हें हम, बताकर के रोये ॥

चटक मटक चटकीली चाल, और ये घुंघर वाला बाल: भजन

चटक मटक चटकीली चाल, और ये घुंघर वाला बाल, तिरछा मोर मुकट सिर पे, और ये गल बैजंती माल, तेरी सांवरी सुरतिया, पे दिल गई हार, तेरी सांवरी सुरतिया, पे दिल गई हार ॥

Download BhaktiBharat App